09412218956

पावन चिंतन धारा आश्रम भारत की महान ऋषिकुल परंपरा का आश्रम है जो,                       ध्यान-साधना-तप पर आधारित है                       “राष्ट्र धर्म सर्वोपरि” के सिद्धांत में विश्वास रखता है                       धर्म, दर्शन व इतिहास का वैज्ञानिक शिक्षण देता है                       सेवा को आध्यात्मिक जीवन का प्रारंभ मानता है                       व्यक्तित्व की शुद्धता और गुणों के विकास हेतु प्रशिक्षण देता है                       कर्महीनता, अज्ञानता, अंधविश्वास व पाखंड से दूर रहने का आग्रह करता है                       अधिष्ठात्री– माँ दुर्गा                       प्रेरणा –स्वामी विवेकानंद                       प्रथम पूज्य- भारत माता                       छत्रछाया- धर्म ध्वज                       जीवन सूत्र- प्रभु नाम- प्रभु काम- प्रभु ध्यान                      

Home > Publications > Books >> आतंरिक शक्तियों का विकास
Antarik Shakityo Ka Vikas

Publications - Books

 
आतंरिक शक्तियों का विकास
Antarik Shakityo Ka Vikas
 
Price(India) :Rs 30
 
Price(other Countries) :$ 0
 
Remarks :आतंरिक शक्तियों का विकास
Antarik Shakityo Ka
 

A lecture given by Shriguru Pawan Ji in Kota, Rajasthan is presented in this booklet. How can one recognize the powers within and how to develop those powers. These powers are very essential for psychological well being of an individual and for the nation as a whole.